राजीव दीक्षित

क्रांतिकारी / आजादी बचाओ आंदोलन और भारत स्वाभिमान आंदोलन के संस्थापक।

राजीव दीक्षित (30 नवम्बर 1967 – 30 नवम्बर 2010)

एक भारतीय वैज्ञानिक, प्रखर वक्ता और आजादी बचाओ आन्दोलन के संस्थापक थे।

बाबा रामदेव ने उन्हें भारत स्वाभिमान (ट्रस्ट) के राष्ट्रीय महासचिव का दायित्व सौंपा था, जिस पद पर वे अपनी मृत्यु तक रहे। वे राजीव भाई के नाम से अधिक प्रसिद्ध थे।

जीवन परिचय

राजीव दीक्षित का जन्म उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जनपद की अतरौली तहसील के नाह गाँव में राधेश्याम दीक्षित एवं मिथिलेश कुमारी के यहाँ 30 नवम्बर 1967 को हुआ था। फिरोजाबाद से इण्टरमीडिएट तक की शिक्षा प्राप्त करने के उपरान्त उन्होंने प्रयागराज से बी० टेक० तथा भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर से एम० टेक० की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने कुछ समय भारत के सीएसआईआर तथा फ्रांस के टेलीकम्यूनीकेशन सेण्टर में काम भी किया। तत्पश्चात् वे भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ॰ ए पी जे अब्दुल कलाम के साथ जुड़ गये। इसी बीच उनकी प्रतिभा के कारण सीएसाअईआर में कुछ परियोजनाओ पर काम करने और विदेशो में शोध पत्र पढने का मौका भी मिला। वे भगतसिंह, उधमसिंह, और चंद्रशेखर आजाद जैसे महान क्रांतिकारियों से प्रभावित रहे। बाद में जब उन्होंने गांधीजी को पढ़ा तो उनसे भी प्रभावित हुए।

दीक्षित ने 20 वर्षों में लगभग 12000 से अधिक व्याख्यान दिये।

भारत में 5000 से अधिक विदेशी कम्पनियों के खिलाफ उन्होंने स्वदेशी आन्दोलन की शुरुआत की। उन्होंने 9 जनवरी 2009 को भारत स्वाभिमान ट्रस्ट का दायित्व सँभाला।

राजीव दीक्षित और आजादी बचाओ आंदोलन

आज़ादी बचाओ आन्दोलन

भारत का एक सामाजिक-आर्थिक आन्दोलन है। यह भारत विदेशी बहुराष्ट्रीय कम्पनियों के उपभोक्ता सामग्री के क्षेत्र में प्रवेश का विरोध करता है। इसके अलावा भारत में पाश्चात्य संस्कृति के दुष्प्रभावों के प्रति भी लोगों को सचेत करता है।

यह नई आजादी उद्घोष नामक एक पत्रिका भी निकालता है। श्री राजीव दिक्षित, डा॰ बनवारी लाल शर्मा आदि इसके प्रखर वक्ता हैं जो देश भर में भ्रमण करते हैं और विभिन्न आर्थिक-सामाजिक विषयों पर भाषण देते हैं। इसके अतिरिक्त यह संस्था आम लोगों एवं विद्यार्थियों के साथ मिलकर बहुराष्ट्रिय कम्पनियों के विरुद्ध आन्दोलन एवं विरोध प्रदर्शन भी करती है। इसने विदेशी बहुराष्ट्रीय कम्पनियोंके विरुद्ध विभिन्न न्यायालयों में कई याचिकायें दायर की जिसमें कई में इनके पक्ष में निर्णय भी आये।

पेप्सी एवं कोक का यह विशेष विरोध करते हैं।

स्थापना

8 जनवरी 1992 को महाराष्ट्र के वर्धा नामक शहर में हुई एक बैठक से ‘आजादी बचाओ आंदोलन’ का सूत्रपात हुआ। आंदोलन के प्रमुख सूत्रधार श्री बनवारी लाल शर्मा और श्री राजीव दीक्षित इससे पहले भोपाल गैस त्रासदी की जिम्मेदार अमेरिकी कंपनी यूनियन कार्बाइड के विरूद्ध लोक स्वराज अभियान चला रहे थे। आजादी अर्थात् आर्थिक व सांस्कृतिक आजादी और इसको बचाने के लिए विभिन्न गतिविधियां प्रारंभ की गईं।

कार्य

सबसे प्रमुख काम जन प्रबोधन का था और इसके लिए विपुल साहित्य और आडियो विडियो कैसेट बनाए गए। विभिन्न स्थानों पर व्याख्यान, प्रशिक्षण शिविर आदि शुरू किए गए। स्थानीय स्तर पर स्वदेशी वस्तुएं मिल सकें, इसके लिए स्वदेशी भंडार खोलने के प्रयत्न प्रारंभ हुए। धीरे-धीरे आजादी बचाओ आंदोलन का काम भी बढ़ा और लोगों में ग्राह्यता भी। आज देश के 12 प्रदेशों में 1500 तहसील स्तरीय और 300 जिलास्तरीय इकाइयां हैं। 118 गांवों को पूरी तरह स्वदेशी गांव के रूप में विकसित किया गया है जहां न केवल पेप्सी कोला, कोलगेट जैसी विदेशी कंपनियों के उत्पाद ही बिकने बंद हैं, बल्कि खेती भी देशी पद्धति से और रासायनिक खादों व संकर बीजों के बिना की जाती है। साथ ही आंदोलन ने गुणवत्ता के लिए आई। एस.आई। के समान अपना एक ब्रांड विकसित किया है – स्वानंद। स्वानंद अर्थात् स्व (स्वदेशी) का आनंद। आंदोलन द्वारा चलाए जा रहे स्वदेशी भंडारों को भी स्वानंद भंडार ही कहा जाता है। प्रतिवर्ष आंदोलन द्वारा 4-5 बड़े प्रशिक्षण वर्ग लगाए जाते हैं। आजादी बचाओ आंदोलन समाचार नामक एक साप्ताहिक का भी प्रकाशन किया जाता है।

चूंकि भारत कृषि आधारित देश है, इसलिए आंदोलन ने भी कृषि को अपनी सर्वोच्च प्राथमिकता माना है। इसके तहत किसानों को देशी पद्धति से खेती करने की प्रेरणा दी जाती है। रासायनिक खादों की बजाय जैविक खाद, केंचुआ और गोबर खाद आदि का उपयोग करने, खेती के साथ पशुपालन को जोड़ने पर आंदोलन विशेष जोर देता है। आंदोलन की दूसरी प्राथमिकता है, गांव-गांव में स्वदेशी वस्तुओं का उत्पादन। इसके तहत आंदोलन ने बिना सरकारी अनुदान के ही उत्कृष्ट गुणवत्ता वाली और सस्ती खादी बनाने में सफलता पाई है। स्वदेशी उत्पादों का वितरण तीसरी प्राथमिकता है। आंदोलन की चौथी प्राथमिकता है, देशी चिकित्सा पद्धति को बढ़ावा देना।

इस प्रकार आंदोलन ने जन प्रबोधन के विपुल प्रयत्न किए हैं, वहीं स्वदेशी उत्पादों के निमार्ण और वितरण हेतु भी काफी काम खड़ा किया है। स्वदेशी उत्पाद की उपलब्धता के साथ-साथ उसकी गुणवत्ता बढ़ाने के लिए भी महत्वपूर्ण प्रयास किए हैं। ———– आंदोलन के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री राजीव दीक्षित से भारतीय पक्ष की वार्ता के संपादित अंश।

लेकिन राजीव दीक्षित जी की मौत के बाद यह आंदोलन बिखर गया और कार्यकर्ताओं बीच आपस में फूट पड़ी। यह आंदोलन राजीव दीक्षित और क्रांतिकारियों का सपना पूरा करने में असफल रहा।

मृत्यु एक रहस्य

30 नवम्बर 2010 को दीक्षित को अचानक दिल का दौरा पड़ा! पहले भिलाई के सरकारी अस्पताल ले जाया गया उसके बाद अपोलो बी०एस०आर० अस्पताल में दाखिल कराया गया। उन्हें दिल्ली ले जाने की तैयारी की जा रही थी लेकिन इसी दौरान स्थानीय डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। डाक्टरों का कहना था कि उन्होंने ऍलोपैथिक इलाज से लगातार परहेज किया। चिकित्सकों का यह भी कहना था कि दीक्षित होम्योपैथिक दवाओं के लिये अड़े हुए थे। अस्पताल में कुछ दवाएँ और इलाज से वे कुछ समय के लिये बेहतर भी हो गये थे मगर रात में एक बार फिर उनको गम्भीर दौरा पड़ा जो उनके लिये घातक सिद्ध हुआ।

लगभग आधे भारत की यात्रा करने के बाद राजीव भाई 26 नवंबर 2010 को उडीसा से छतीसगढ राज्य के एक शहर रायगढ पहुंचे वहाँ उन्होने 2 जन सभाओ को आयोजित किया ! इसके पश्चात अगले दिन 27 नवंबर 2010 को जंजगीर जिले मे दो विशाल जन सभाए की इसी प्रकार 28 नवंबर बिलासपुर जिले मे व्याख्यान देने से पश्चात 29 नवंबर 2010 को छतीसगढ के दुर्ग जिले मे पहुंचे ! उनके साथ छतीसगढ के राज्य प्रभारी दया सागर और कुछ अन्य लोग साथ थे ! दुर्ग जिले मे उनकी दो विशाल जन सभाए आयोजित थी पहली जनसभा तहसील बेमतरा मे सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक थी !राजीव भाई ने विशाल जन सभा को आयोजित किया !! इसके बाद का कार्यक्रम साय 4 बजे दुर्ग मे था !! जिसके लिए वह दोपहर 2 बजे बेमेतरा तहसील से रवाना हुए !

30 नवम्बर 2010 को दीक्षित को अचानक दिल का दौरा पड़ने के बाद पहले भिलाई के सरकारी अस्पताल ले जाया गया उसके बाद अपोलो बी०एस०आर० अस्पताल में दाखिल कराया गया। उन्हें दिल्ली ले जाने की तैयारी की जा रही थी लेकिन इसी दौरान स्थानीय डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। डाक्टरों का कहना था कि उन्होंने ऍलोपैथिक इलाज से लगातार परहेज किया। चिकित्सकों का यह भी कहना था कि दीक्षित होम्योपैथिक दवाओं के लिये अड़े हुए थे। अस्पताल में कुछ दवाएँ और इलाज से वे कुछ समय के लिये बेहतर भी हो गये थे मगर रात में एक बार फिर उनको गम्भीर दौरा पड़ा जो उनके लिये घातक सिद्ध हुआ। (इसके बात की घटना विश्वास योग्य नहीं है इसके बाद की सारी घटना उस समय उपस्थित छतीसगढ के प्रभारी दयासागर और कुछ अन्य साथियो द्वारा बताई गई है।)

उन लोगो का कहना है गाडी मे बैठने के बाद उनका शरीर पसीना पसीना हो गया ! दयासागर ने राजीव जी से पूछा तो जवाब मिला की मुझे थोडी गैस सीने मे चढ गई है शोचलाय जाऊँ तो ठीक हो जाऊंगा !

फिर दयासागर तुरंत उनको दुर्ग के अपने आश्रम मे ले गए वहाँ राजीव भाई शोचालय गए और जब कुछ देर बाद बाहर नहीं आए तो दयासागर ने उनको आवाज दी राजीव भाई ने दबी दबी आवाज मे कहा गाडी स्टार्ट करो मैं निकल रहा हूँ ! जब काफी देर बाद राजीव भाई बाहर नहीं आए तो दरवाजा खोला गया राजीव भाई पसीने से लथपत होकर नीचे गिरे हुए थे ! उनको बिस्तर पर लिटाया गया और पानी छिडका गया दयासागर ने उनको अस्पताल चलने को कहा ! राजीव भाई ने मना कर दिया उन्होने कहा होमियोपैथी डॉक्टर को दिखाएंगे !

थोडी देर बाद होमियोपैथी डॉक्टर आकर उनको दवाइयाँ दी ! फिर भी आराम ना आने पर उनको भिलाई से सेक्टर 9 मे इस्पात स्वयं अस्पताल मे भर्ती किया गया ! इस अस्पताल मे अच्छी सुविधाइए ना होने के कारण उनको ।चवससव ठैत् मे भर्ती करवाया गया ! राजीव भाई एलोपेथी चिकित्सा लेने से मना करते रहे ! उनका संकल्प इतना मजबूत था कि वो अस्पताल मे भर्ती नहीं होना चाहते थे ! उनका कहना था कि सारी जिंदगी एलोपेथी चिकित्सा नहीं ली तो अब कैसे ले लू ? ! ऐसा कहा जाता है कि इसी समय बाबा रामदेव ने उनसे फोन पर बात की और उनको आईसीयु मे भर्ती होने को कहा !

फिर राजीव भाई 5 डॉक्टरों की टीम के निरीक्षण मे आईसीयु भर्ती करवाएगे !! उनकी अवस्था और भी गंभीर होती गई और रात्रि एक से दो के बीच डॉक्टरों ने उन्हे मृत घोषित किया !!

(बेमेतरा तहसील से रवाना होने के बाद की ये सारी घटना राज्य प्रभारी दयासागर और अन्य अधिकारियों द्वारा बताई गई है अब ये कितनी सच है या झूठ ये तो उनके नार्को टेस्ट करने ही पता चलेगा !!

क्योकि राजीव जी की मृत्यु का कारण दिल का दौरा बता कर सब तरफ प्रचारित किया गया ! 30 नवंबर को उनके मृत शरीर को पतंजलि लाया गया जहां हजारो की संख्या मे लोग उनके अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे ! और 1 दिसंबर राजीव जी का दाह संस्कार कनखल हरिद्वार मे किया गया !!

राजीव भाई के चाहने वालों का कहना है कि अंतिम समय मे राजीव जी का चेहरा पूरा हल्का नीला, काला पड गया था ! उनके चाहने वालों ने बार-बार उनका पोस्टमार्टम करवाने का आग्रह किया लेकिन पोस्टमार्ट्म नहीं करवाया गया !! राजीव भाई की मौत लगभग भारत के प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की मौत से मिलती जुलती है आप सबको याद होगा ताशकंद से जब शास्त्री जी का मृत शरीर लाया गया था तो उनके भी चेहरे का रंग नीला, काला पड़ गया था !! और अन्य लोगो की तरह राजीव भाई भी ये मानते थे कि शास्त्री जी को विष दिया गया था !! राजीव भाई और शास्त्री जी की मृत्यु मे एक जो समानता है कि दोनों का पोस्टमार्टम नहीं हुआ था !!

राजीव भाई की मृत्यु से जुडे कुछ सवाल !!

किसके आदेश पर ये प्रचारित किया गया ? कि राजीव भाई की मृत्यु दिल का दौरा पडने से हुयी है ?

29 नवंबर दोपहर 2 बजे बेमेतरा से निकलने के पश्चात जब उनको गैस की समस्या हुए और रात 2 बजे जब उनको मृत घोषित किया गया इसके बीच मे पूरे 12 घंटे का समय था 12 घंटे मे मात्र एक गैस की समस्या का समाधान नहीं हो पाया ??

आखिर पोस्ट मार्टम करवाने मे क्या तकलीफ थी ??

राजीव भाई का फोन जो हमेशा आन रहता था उस 2 बजे बाद बंद क्यों था ??

राजीव भाई के पास एक थैला रहता था जिसमे वो हमेशा आयुर्वेदिक, होमियोपैथी दवाएं रखते थे वो थैला खाली क्यों था ??

30 नवंबर को जब उनको पतंजलि योगपीठ मे अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था उनके मुंह और नाक से क्या टपक रहा था उनके सिर को माथे से लेकर पीछे तक काले रंग के पालिथीन से क्यूँ ढका था ?

राजीव भाई की अंतिम विडियो जो आस्था चैनल पर दिखाई गई तो उसको एडिट कर चेहरे का रंग सफेद कर क्यों दिखाया गया ?? अगर किसी के मन को चोर नहीं था तो विडियो एडिट करने की क्या जरूरत थी ??

अंत पोस्टमार्टम ना होने के कारण उनकी मृत्यु आजतक एक रहस्य ही बन कर रह गई !!

राजीव भाई के कई समर्थक उनके जाने के बाद बाबा रामदेव से काफी खफा है क्योंकि बाबा रामदेव अपने एक व्याख्यान मे कहा कि राजीव भाई को हार्ट ब्लोकेज था, शुगर की समस्या थी, बी.पी. भी था।

भाई पतंजलि योगपीठ की बनी दवा मधुनाशनी खाते थे ! जबकि राजीव भाई खुद अपने एक व्याख्यान मे बता रहे हैं कि उनका शुगर, बीपी, कोलेस्ट्रोल सब नार्मल है !! वे पिछले 20 साल से डॉक्टर के पास नहीं गए ! और अगले 15 साल तक जाने की संभावना नहीं !! और राजीव भाई के चाहने वालो का कहना है कि हम कुछ देर के लिए राजीव भाई की मृत्यु पर प्रश्न नहीं उठाते लेकिन हमको एक बात समझ नहीं आती कि पतंजलि योगपीठ वालों ने राजीव भाई की मृत्यु के बाद उनको तिरस्कृत करना क्यों शुरू कर दिया ?? मंचो के पीछे उनकी फोटो क्यों नहीं लगाई जाती ??

कभी साल अगर उनकी पुण्यतिथि पर व्याख्यान दिखाये भी जाते है तो वो भी 2-3 घंटे के व्याख्यान को काट काट कर एक घंटे का बनाकर दिखा दिया जाता है !!

इसके अतिरिक्त उनके कुछ समर्थक कहते हैं कि भारत स्वाभिमान आंदोलन की स्थापना जिस उदेश्य के लिए हुए थी राजीव भाई की मृत्यु के बाबा रामदेव उस राह हट क्यों गए ? राजीव भाई और बाबा खुद कहते थे कि सब राजनीतिक पार्टियां एक जैसी है हम 2014 मे अच्छे लोगो को आगे लाकर एक नया राजनीतिक विकल्प देंगे ! लेकिन राजीव भाई की मृत्यु के बाद बाबा रामदेव ने भारत स्वाभिमान के आंदोलन की दिशा बदल दी और राजीव की सोच के विरुद्ध आज वो भाजपा सरकार का समर्थन कर रहें !! इसलिए बहुत से राजीव भाई के चाहने वाले भारत स्वाभिमान से हट कर अपने अपने स्तर पर राजीव भाई का प्रचार करने मे लगे हैं !!

राजीव भाई ने अपने पूरे जीवन मे देश भर मे घूम घूम कर 5000 से ज्यादा व्याख्यान दिये !सन 2005 तक वह भारत के पूर्व से पश्चिम उत्तर से दक्षिण चार बार भ्रमण कर चुके थे !! उन्होने विदेशी कंपनियो की नाक मे दम कर रखा था !

भारत के किसी भी मीडिया चैनल ने उनको दिखाने का साहस नहीं किया !! क्योकि वह देश से जुडे ऐसे मुद्दो पर बात करते थे की एक बार लोग सुन ले तो देश मे 1857 से बडी क्रांति हो जाती ! वह ऐसे ओजस्वी वक्ता थे जिनकी वाणी पर माँ सरस्वती साक्षात निवास करती थी। जब वे बोलते थे तो स्रोता घण्टों मन्त्र-मुग्ध होकर उनको सुना करते थे ! 30 नवम्बर 1967 को जन्मे और 30 नवंबर 2010 को ही संसार छोडने वाले ज्ञान के महासागर श्री राजीव दीक्षित जी आज केवल आवाज के रूप मे हम सबके बीच जिंदा है उनके जाने के बाद भी उनकी आवाज आज देश के लाखो करोडो लोगो का मार्गदर्शन कर रही है और भारत को भारत की मान्यताओं के आधार पर खडा करने आखिरी उम्मीद बनी हुई है

राजीव दीक्षित के बारे में 15 रोचक तथ्य

आज हम बात करेगे एक ऐसे आदमी की, ‘स्वदेशी‘ जिसकी रग रग में भरा पड़ा था. जो बात कहता था तो पूरे तथ्यों के साथ. जो एक रहस्यमयी मौत मरा. नाम था भाई राजीव दीक्षित

1. यदि आज राजीव दीक्षित जिंदा होते तो अब तक शायद भारत में स्वेदेशी और आयुर्वेद का सबसे बड़ा ब्रांड बन चुका होता. रामदेव के ‘पतंजलि‘ से भी बड़ा।

2. राजीव दीक्षित का जन्म 30 नवंबर 1967, यूपी के अलीगढ़ में राधेश्याम और मिथिलेश कुमारी के घर हुआ. राजीव दीक्षित IIT से M.Tech पास थे. बताते है कि उन्होनें डाॅ. अब्दुल कलाम के साथ भी काम किया।

3. राजीव दीक्षित अंगूठे पर मेथी का दाना बाँधकर जुकाम ठीक कर लेता था. कहता था कि वह पिछले 20 सालों में कभी बीमार नही पड़ा।

4. राजीव दीक्षित बचपन में हर महीने 800 रूपए सिर्फ मैगजीन और अखबार पढ़ने में खर्च करते थे. इस शख्स की रूचि बालकपन से ही देश की समस्याओं को जानने में थी।

5. भाई राजीव दीक्षित जी ‘स्वदेशी‘ के प्रखर प्रवक्ता थे. उनके मन में बस एक बात बैठी हुई थी ‘स्वदेशी, स्वदेशी, स्वदेशी. वो देश से वैश्वीकरण और उदारीकरण को जड़ से उखाड़ फेंकना चाहते थे।

6. राजीव दीक्षित, विदेशी कंपनियों को देश से भगाना चाहते थे. वो भारत के मेडिकल सिस्टम को आयुर्वेद पर आधारित करना चाहते थे।

7. राजीव दीक्षित भारत के पूरे सिस्टम को बदलना चाहते थे. वो भारत के एजुकेशन सिस्टम को मैकाॅले की देन बताते थे. उनके अनुसार शिक्षा के लिए गुरूकुल सिस्टम बेस्ट है।

8. राजीव दीक्षित ने पूरे देश में घूम-घूमकर स्वदेशी का प्रचार किया. और अपने जीवन में 13 हजार से ज्यादा व्याख्यान दिए. इनके व्याख्यान आज भी इंटरनेट पर उपलब्ध है. आप यूट्यूब पर विडियों देख सकते है या फिर गूगल पर सर्च कर सकते है।

9. राजीव दीक्षित के गुरू थे इतिहासकार और प्रोफेसर ‘धर्मपाल‘. धर्मपाल ने ही राजीव को इंग्लैंड के पुस्तकालय से बड़ी मुश्किल से इकट्ठे करके भारत की आजादी के दस्तावेज दिए थे.

10. राजीव दीक्षित, जवाहरलाल नेहरू को देश के सबसे बड़े दुश्मन की तरह देखते थे. यह शख्स अमिताभ बच्चन, हेमा मालिनी, अटल बिहारी वाजपेयी और ममता बनर्जी जैसी हस्तियों से लगातार बातचीत का दावा करता था।

11. शादी न करने वाले राजीव अपनी बात मनवाने के लिए भावना-प्रधान दावे पेश करते थे. वो कहते थे कि 1984 में हुई भोपाल गैस त्रासदी कोई हादसा नही बल्कि भारतीय गरीबों पर कराया गया अमेरिका का एक परीक्षण था. वो कहते थे कि 9/11 यानि वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर खुद अमेरिका ने करवाया था. वो कहते थे भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू गाय का माँस खाते थे. ऐसे ही राजीव ने कई विवादास्पद दावे किये. आप यूट्यूब पर विडियों देख सकते है।

12. इंटरनेट पर मौजूद जानकारी को देखा जाए तो राजीव भाई 1999 में बाबा रामदेव के संपर्क में आए. उन्होनें ही रामदेव को काले धन वगरैह के बारे में बताया, इससे रामदेव प्रभावित हो गए और विचार मिलने के बाद दोनों एक साथ काम करने को सहमत हो गए।

13. 2009 में राजीव और रामदेव ने एक आंदोलन शुरू किया था ‘भारत स्वाभिमान आंदोलन‘. इस आंदोलन का मकसद था भारत को पूरी तरह स्वदेशी बनाना, बुद्धिमान और ईमानदार लोगो को एकजुट करना, भारत को विश्वशक्ति बनाना. ये चाहते थे कि लोगो को जोड़ने के बाद 2014 में एक नई पार्टी का विकल्प रखेगे. और लोकसभा चुनाव में दावेदारी पेश करेगे.

14. राजीव दीक्षित जी की मौत उसी दिन हुई जिस दिन जन्म हुआ था. 30 नवंबर, मतलब उनकी जयंती और पुण्यतिथि एक ही दिन है।

15. राजीव दीक्षित मृत्यु: 30 नवंबर 2010, को छतीसगढ़ के भिलाई में हुआ राजीव दीक्षित का निधन एक खबर भी न बन सका. इनकी मौत पर मीडिया पूरी तरह से साइलंट रही. राजीव दीक्षित की मौत आज भी एक रहस्य बनी हुई है. इसका असली कारण है पोस्टमार्टम ना करना लेकिन क्यों ? एक सवाल ये भी कि राजीव का मृत शरीर हरिद्वार में रामदेव के पतंजलि में क्यों ले जाया गया,

सेवाग्राम(राजीव दीक्षित का घर) में क्यों नही ? एक सवाल ये भी कि मरने के बाद राजीव की बाॅडी नीली क्यों पड़ गई थी ? ऐसा लग रहा था मानो किसी ने जहर दे दिया हो.. कही ये कोई षडयंत्र तो नही था. राजीव के समर्थक तो यही मानते है कि ये सब रामदेव का किया कराया था क्योकिं रामदेव, राजीव को अपने सबसे बड़े प्रतिद्वंद्वि के रूप में देखते थे।

वैसे तो राजीव दीक्षित किसी परिचय के मोहताज नही , इनके व्यखान जिसने भी सुना है , उनका जीवन परिवर्तन हो गया है , लेकिन फिर भी उनके जीवन से से जुड़े कुछ बातों लिखने की कोशिश कर रहा हूँ ।

आइये जानते हैं राजीव दीक्षित के जीवन से जुड़े कुछ ऐसे रोचक तथ्य जो सायद आप नही जानते होंगे।

1.   राजीव दीक्षित बचपन से ही किताबें पढ़ने के सौकिन रहें हैं ,कहा जाता है  वे 800 रुपये प्रतिमाह सिर्फ किताबें और अखबार पढ़ने मे खर्च कर देते थे । उनका ज़्यादातर समय देश के समस्याओं के अध्ययन मे जाता था , यही नहीं राजीव दीक्षित ने अपने जीवन काल मे कई पुस्तकें भी लिखे हैं ,जिसका pdf आसानी से इंटरनेट पर उपलब्ध है ।

2.  राजीव दीक्षित एक प्रखर प्रवक्ता थे , ये तो आप भलीभाँति परिचित हैं , राजीव दीक्षित ने अपने जीवन काल मे 13 हजार से भी ज्यादा व्याखान दिये हैं ,उसमे से ज़्यादातर आज इंटरनेट पर बड़े आसानी से मिल जाते हैं ।

3.   राजीव दीक्षित के मौत का दिन भी एक संयोग ही था , क्योंकि ऐसा संयोग किसी महापुरुष के साथ ही संभव है , राजीव भाई का जन्म और मृत्यु एक दिन एक ही था । उनका जन्म 30 नवम्बर 1967 तथा मृत्यु 30 नवम्बर 2010 को हुआ था ।

4.  यह बात बहुत कम लोगों को ही पता है ,कि राजीव दीक्षित देश हित कई बार जेल भी गए थे , राजीव भाई भले ही अपने आपको गांधीवादी कहते थे लेकिन उनके आंदोलन करने का तरीका भगत सिंह से प्रेरित था ।

5.  राजीव दीक्षित अपने व्याखन मे जो आयुर्वेद के नियम बताते थे उन्हे वो खुद भी प्रयोग मे लाते थे , जैसे बैठ कर पानी पिना, वे जब भी पानी पीते बैठ कर ही पीते थे ।

6.   राजीव दीक्षित जहाँ भी जाते थे ,उनके पास एक थैली होती थी  , जिसमे दो जोड़ी खादी के बने कपड़े , कुछ किताबें और होमियोपेथी की कुछ दवाइयाँ हुआ करती थी ।

7.  काला धन पर बात करने वाले पहले व्यक्ति बाबा रामदेव या अन्ना हज़ारे नही बल्कि राजीव दीक्षित ही थे , राजीव दीक्षित ने कला धन को देश मे वापस लाने के 4 तरीके बताएं थे , जो आज प्रयोग मे लाये जा सकते हैं ।

8.   राजीव दीक्षित कभी ब्रश से मुह नहीं धोते थे , वे मुह धोने के लिए या तो दातुन  या फिर मंजन का प्रयोग करते थे ।

9.   कहा जाता है ,जब उन्हे जुकाम होता था, तो वे मेथी के दाने को अपने अंगूठे मे बांध लेते थे और ऐसा करने से उनका जुकाम ठीक भी हो जाता था , राजीव दीक्षित बोलते थे मै 20 साल से बीमार नहीं हुआ ।

10.   राजीव दीक्षित के गुरु का नाम प्रोफेसर धर्मपाल था , वे एक जाने माने इतिहासकारों मे से थे ,प्रोफेसर धर्मपाल का प्रोग्राम BBC पर आता था , यह कहना गलत नहीं होगा कि राजीव दीक्षित के स्वदेशी के प्रति प्रेम का पूरा श्रेय उनके गुरु को जाता है , दुर्भाग्य से आज दोनों इस दुनिया मे नहीं हैं ।

11.  इतने प्रतिभाशाली होने के बाद भी राजीव दीक्षित कभी नेशनल टीवी चैनल पर नहीं आए , उसका कारण राजीव दीक्षित खुद बताते थे कि मै विदेशी कंपनियों के खिलाफ बोलता हूँ और विदेशी कंपनियों का विज्ञापन नेशनल टीवी चैनल लेते हैं , इसलिए वो कभी मुझे अपने प्रोग्राम मे नहीं बुलाते , लेकिन वे हमसे ऑफ रेकॉर्ड बात- चित जरूर करते हैं ।

12.   राजीव दीक्षित पहले व्यक्ति थे जिन्होने पहली बार मदर टरेसा का सच सबके सामने लाया था , तथा इससाइयों के चल रहे षडयंत्र को उजागर किया था , जिसके बाद उनको कई बार धमकियाँ भी आई थी ।

14.  राजीव दीक्षित 2014 मे चुनाव लड़ने कि तैयारी कर रहें थे जिसमे वो खुद दावेदारी नहीं करते बल्कि , योग्य व्यक्तियों को चुनाव मे भेजते ताकि उनसे देश हित मे कार्य कराया जा सके , इस बात मे कितनी सच्चाई है इसकी पुष्टि नहीं है ,लेकिन यह बात उनके भारत स्वाभिमान मे आने के बाद की है।

15.  वर्ष 1999 मे ही राजीव दीक्षित बाबा रामदेव के संपर्क मे आ गए थे , तब तक बाबा रामदेव सिर्फ योग की ही बात करते थे , जिसके बाद राजीव दीक्षित ने बाबा रामदेव को भारत देश की समस्याओं तथा स्वदेशी की और आकृष्ट किया । बाद मे जाकर भारत स्वाभिमान का गठन हुआ, और दोनों मिलकर राष्ट्र निर्माण के काम मे लग गए।

16.   बाबा रामदेव के पतंजलि के इतना बड़ा ब्रांड होने के पीछे राजीव दीक्षित का स्वदेशी ज्ञान रहा है , अगर राजीव दीक्षित अपने ज्ञान को बाबा रामदेव को न देते तो आज पतंजलि इतना बड़ा ब्रांड नहीं बनता।

17.  राजीव दीक्षित के द्वारा इकट्ठा की गई सारे दस्तावेज़ आज भी बाबा रामदेव के पास सुरक्षित है , लेकिन बाबा रामदेव इसे अपनी  विरासत मान बैठें हैं ।

18. आठ साल बाद राजीव दीक्षित की मौत की जाँच हो रही है ,उनका मौत बहुत बड़ा रहस्य बना हुआ था , समय -समय पर उनके मौत की जांच को लेकर आंदोलन हुआ करते थे।